a very short story in hindi अहंकार अच्छा नहीं हैं

यह  a very short story in hindi कहानी छोटी जरूर है लेकिन जब आप से पढ़ेगे तो आप को समझ आयेगा की अहंकार कितना खराब होता हैं इस a very short story in hindi में एक मूर्तिकार का अहंकार कैसे उसे खुद की नजर में गिरा देता है 

 किसी शहर में एक मूर्तिकार रहता था। उसकी ख्याति देश-विदेश तक फैली हुई थी। वो इतनी उच्चकोटि की मूर्तियां बनाता था कि वे सजीव सी प्रतीत होती थीं। उस मूर्तिकार को अपनी कला पर बड़ों घमंड हो गया। उसे जब लगा कि जल्दी ही उसकी मृत्यु हो जाएगी तो वह परेशानी में पड़ गया। 

यमदूतों को भ्रमित करने के लिए उसने एकदम अपने जैसी दस मूर्तियां बना डाली और योजनानुसार उन मूर्तियों के बीच में वह स्वयं जाकर बैठ गया। यमदूत जब उसे लेने आए तो एक जैसी ग्यारह आकृतियां देखकर स्तम्भित रहे गए। इनमें  वास्तविक मनुष्य कौन है, नहीं पहचान पाए। वे सोचने लगे, अब क्या किया जाए। 

मूर्तिकार के प्राण अगर न लें सके तो सृष्टि को नियम टूट जाएगा और सत्य परखने के लिए मूर्तियां तोड़े तो कला का अपमान होगा। अचानक एक यमदूत को मानव स्वभाव के सबसे बड़े दुर्गुणं अहंकार की स्मृतिआई। उसने चाल चलते हुए कहा, ‘काश इन मूर्तियों को बनाने वाला मिलता तो मैं उससे बताता कि मूर्तियां तो अति सुंदर बनाई हैं, 

लेकिन इनको बनाने में एक त्रुटि रह गई। यह सुनकर मूर्तिकार का अहंकार जाग उठा कि मेरी कला में कमी कैसे रह सकती है, फिर इस कार्य में तो मैंने अपना पूरा जीवन समर्पित किया है। वह बोल उठा, कैसी त्रुटि’? झट से यमदूत ने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला,’बस यही त्रुटि कर गए तुम अपने अहंकार में कि बेजान मूर्तियां बोला नहीं करतीं।

इस a very short story in hindi हमने सीखा व्यक्ति में अहंकार बहुत ही बड़ा दुर्गुण हैं जिससे हमें बचना चाहिये  

read

god story in hindi भगवान पर विश्वास करकें देखे
good moral story in hindi संघर्ष जरूरी होता है

short love stories in hindi with moral-सच्चे प्रेमी जो
best love story in hindi-ये जीवन प्यार बिना अधूरा है

 


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *