संघर्ष ज़रूरी है महान बनने के लिए good moral story in hindi

हेलो दोस्तों  good moral story in hindi  को पढ़कर आप सीखोगे की कुछ बनने के लिए संघर्ष जरूरी होता है यह moral story एक बहतरीन स्टोरी है तो आप सभी पढ़े good moral story in hindi  स्टोरी को 

एक किसान व्यक्ति था खेती-बाड़ी करके ही जीवन यापन करता था विभिन्न प्रकार की फसलें लगाता था अपने खेत में और उसी को बेच कर अपने परिवार का पालन पोषण करता था वह बड़ी खुशी खुशी अपना जीवन व्यतीत कर रहा था

लेकिन उसे एक बात की चिंता रहती थी वह है आंधी ओलावृष्टि जैसी प्राकृतिक आपदाओं से उसकी फसल खराब हो जाती थी इस बात से किसान उदास रहता था फसले बुवाई से परिपूर्ण होने तक प्राकृतिक आपदाओं से खराब हो जाती थी इसी बात की चिंता उसे सताती रहती थी क्योंकि इससे फसलों को थोड़ा सा नुकसान हो जाता था

किसान व्यक्ति विचार करता काश भगवान ने उसे प्राकृति को बदल ने की शक्ति दी होती तो मैं मौसम को अपने अनुसार बदल सकता एक दिन उसी गांव में एक बड़े साधु आए उन्हें भूख प्यास सता रही थी तभी उन्हें एक किसान दिखाई दिया उन्होंने कहा मैं बड़ी दूर से यहाँ आया हूं क्या तुम मेरे लिए थोड़ा भोजन दे सकते हो

उस किसान ने भोजन की व्यवस्था कर दी साधु भोजन करके बहुत खुश हुआ और बोला तुमने मुझे भोजन दिया है इसलिए मैं तुम से बहुत खुश हूं अगर तुम्हारी कोई इक्छा है तो तुम मुझसे कह सकते हो मैं उसे अवश्य पूरी करने का प्रयास करूंगा उस किसान व्यक्ति ने कहा मेरी इच्छा है कि मैं प्रकृति को अपने अनुसार बदल सकूं मेरे बोलने मात्र से ही मौसम बदल जाए तब उस साधु ने कहा आज से एक साल तक तुम अपने अनुसार प्रकृति को बदल सकते हो

साधु से आशीर्वाद पाकर किसान बहुत खुश हुआ उसके हाथों में प्राकृति को बदलने की शक्ति जो आ गई थी जब बुवाई का समय आया तो उसने सारे खेत में गेहूं की फसल लगा दी अब तो उसके हाथों में शक्ति जो आ गई थी इसीलिए किसान को जब खेत में पानी की जरूरत होती हो तो बारिश हो जाती और जब धूप छायो की जरूरत होती तो धूप छायो हो जाती

जैसा वह मौसम चाहता खेत में वैसा ही मौसम हो जाता ऐसा मौसम पाकर फसलें भी लहलहाने लगी इसे देखकर किसान बहुत खुश हुआ और सोचने लगा इस साल मैं बहुत ही ज्यादा मुनाफे में रहूँगा

इस साल मेरी बिलकुल फसल बर्बाद नहीं हुई उस किसान की फसलों ने ना कोई मौसम की मार झेली थी और ना ही प्राकृतिक संघर्ष किया था जैसे अन्य फसलें करती है कभी ठंड से कभी धूप से तो कभी आधी तूफानों से वह फसलें बहुत आरामदायक और सुखद मौसम में हुई थी

लेकिन जब फसल काटने की बरी आई तो जैसे ही उसने एक गेहूं की बाल को दबा के देखा तो गेहूं की बाल में दाना ही नहीं निकला किसान व्यक्ति यह देखकर बहुत दुःखी हुआ और सोचने लगा इन फसलों को इतना अच्छा मौसम देने के बाद भी इनके अंदर दाने क्यों नहीं आए

तब एक गेहूं की बाल ने उससे कहा तुमने बहुत गलत किया हमारे साथ अपने मन के अनुसार मौसम को बदलकर तुमने हमें संघर्ष करने से बचाया यही कारण है आज हमारी एक भी बाल में दाना नहीं आया

good moral story in hindi

सीख-व्यक्ति को महान संघर्ष और कठिन परिस्थितियां ही बनाती है इसलिए हमें संघर्ष करने से नहीं घबराना चाहिए

हम उम्मीद करते है की good moral story in hindi कहानी ने आप के दिल को छूआ होगा

read-सच्चे प्रेमी जो जिस्म के पीछे


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *