मुझे वो लड़की किस्मत से मिली-heart touching true love story in hindi 

यह heart touching true love story in hindi एक बेहतरीन स्टोरी होने वाली है जब आप पढ़ेगे इस रियल स्टोरी को तो आप का दिल भी बोल उठेगा क्या कहानी है यह प्यारी सी heart touching true love story in hindi आप के लिए 

हेलो आप लोग इतना बिलीव करते हैं किस्मत पर मुझे पता है आप लोग  यही कहोगे की क़िस्मत भाग्य कुछ नहीं होता यह हमें खुद ही बनाने पड़ते है लेकिन मैं इन चीजों पर यकीन करता हूं क्योंकि मेरी जिंदगी में जो लड़की पत्नी बन के आई है उसमें मेरी किस्मत का ही हाथ है तो सुनिए मेरी इस प्यारी सी heart touching true love story in hindi कहानी को जो आपको भी किस्मत पर यकीन करना सीखा देगी 

हेलो मेरा नाम ध्रुव है यह बात तब की है जब मैं बाहर पढ़कर अपने घर जबलपुर आया था और पापा ने मुझे नई कार लाकर गिफ्ट में दी थी कार को पाकर मैं बहुत खुश हुआ मेरी तो खुशी का ठिकाना नहीं रहा लेकिन आप सब तो जानते ही है जवानी में जोश तो रहता है लेकिन होश नहीं मैं निकल पड़ा कार लेकर पहले तो मुझे थोड़ी दिक्कत हुई कार चलाने में लेकिन थोड़ी ही देर में उसे adjust करने लगा 

heart touching love story in hindi

अब तो मेरे हाथ लग गई थी कार मैंने उसे तेज़ भगाना शुरू किया और सीधे 4th गियर में डाल कर उसे बहुत तेजी से चलाने लगा मुझे बहुत मजा आ रहा था कार को तेज चलाने में लेकिन ऐ मजा कुछ देर में भयानक होने वाला था सड़क को खाली देख कर मैने कार की स्पीड और बढ़ा दी और आगे एक मोड़ थी जिस पर मैंने ध्यान नहीं दिया और वही से एक लड़की स्कूटी चलाते हुए मेरी तरह सामने आ गई 

really heart touching love story in hindi

मैं इक दम से उसे देखकर घबरा गया मुझे कुछ समझ में नहीं आया मैं क्या करूं मैंने कार को सड़क के नीचे उतार दिया और वह मुझसे संभल नहीं पाई और झाड़ियों में घुसते हुए एक पेड़ से टकरा गई और मेरी कार का एक्सीडेंट हो गया वह एक्सीडेंट मेरा इतना भयानक था कि पूछो ही मत मेरा सिर कार की steering में घल कर फट गया और कार का आगे का Glass मेरे गले में जाकर लग गया 

real heart touching love story in hindi

और मेरे हाथ पैर भी बहुत जख्मी हो गये पता नहीं किस की दुआएं थी मेरे साथ जो इतना सब कुछ होने के बावजूद भी मैं जिंदा था मुझे धुंधला धुंधला याद है दो-चार लोग और एक लड़की जिसने मुझे उस कार से निकाला और हॉस्पिटल पहुंचाया उसके बाद तो दो-तीन दिन तक मुझे होश नहीं आया मुझे जब होश आया तो मैंने देखा मेरे माता-पिता और परिजन मेरे पास खड़े हैं और रो-रोकर मेरा हाल पूछ रहे हैं 

heart touching love story in hindi short

लेकिन मैं उन्हें कुछ बोल नहीं पा रहा था क्योंकि मेरे गले में कांच लगने के कारण मुझे  बोलने में तकलीफ हो रही थी मैंने हाथ से इशारा किया मैं ठीक हूं रोओ मत मुझे कुछ नहीं हुआ तो वो मेरे पास आकर बैठ गए और माँ मेरे सर पर हाथ फेरने लगी कुछ देर तक वो सभी मेरे साथ बात करके घर पर लौट गए और मैं लेट कर आराम करने लगा शाम के वक्त एक लड़की आई मैं आंखें बंद करके लेटा था

तभी गेट पर आहट पाकर मैंने जैसे ही आंखें खोली तो उस लड़की को देखकर दिल में अजीब सी लहरें दौड़ने लगी उसके चेहरे को देख कर मेरी निगाहें थम सी गई क्या खूबसूरती थी उसके चेहरे में वह मेरे पास आकर बोली अब कैसी है तबीयत तुम्हारी तुम  ठीक तो हो ना ऐसी बातें कर रही थी वो जैसे पहले से मुझे जानती हो 

उसने मुझसे कहा सॉरी मेरी गलती से तुम्हारा एक्सीडेंट हुआ है ना ही मैं सड़क पर स्कूटी चलाना सीखती और ना ही तुम्हारा एक्सीडेंट होता तब मुझे याद आया अच्छा यह वो लड़की है जो मेरी कार के सामने आ गई थी लेकिन मैं उसे कैसे कहता कि गलती मेरी भी थी मुझे भी ध्यान देना चाहिए था 

तभी एक सिस्टर आई उसने लड़की से कहा यह एक्सीडेंट के कारण कुछ दिनों तक बोल नहीं सकता तब लड़की सिस्टर की बात को 

सुनकर और भी नर्वस हो गई और खुद को कोसने लगी तब मैंने हाथ से इशारा किया मैं ठीक हूं तुम खुद को इतना भला बुरा मत कहो जो होता है अच्छे के लिए होता है उसने मेरे हाथ के इशारे को समझ लिया और वह मेरे पास बैठ कर बातें करने लगी मैं तो वस उसके चेहरे को ही टकटकी लगाए देखता रहा ऐसा खूबसूरत चेहरा मैंने आज तक नहीं देखा था 

उसको देख कर मुझे खुद के दर्द का भी पता ही नहीं चला थोड़ी देर बात करने बाद वो वहा से चली गई लेकिन अपना खूबसूरत चेहरा मेरे आंखों में छोड़ गई उस सारी रात में ख्वाबों में उसे ही देखता रहा मुझे तो नींद ही नहीं आ रही थी उसकी वजह से अगले दिन वह लड़की फिर से आई मेरे पास तो मैं उसे देख कर उठ कर बैठने लगा 

तो वह बोली लेटे रहो,लेटे रहो नहीं तो और दर्द होगा फिर वो पास बैठ कर फिर मुझसे प्यारी प्यारी सी बातें करने लगी तभी उसने मुझसे कहा मैं थोड़ा बाहर जा रही हो शायद कल से ना अपाऊं उसकी बात सुनकर दिल नर्वस हो गया और वो जाने लगी तभी मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे इशारे से समझाने लगा तुम बहुत अच्छी हो अगर तुम ना होती तो शायद मैं जिंदा ना होता और हाथ के इशारे से कहा और बात करो ना मुझे तुम्हारी बातें सुनना अच्छा लगता है 

वह थोड़ा और रुकी और बाते करके चली गई और मैं तो वस लेटे-लेटे देखता रहाउसे जाते हुए देखकर मेरा दिल कह रहा था उठ कर मैं भी चला जाऊं इसके साथ मैं लेकिन क्या करता मैं तो चल भी नहीं सकता था उसके जाने के बाद दिल में वस वही चेहरा समा गया मुझे उसी का ख्याल रहने लगा और हर दिन उसके आने के इंतजार में गेट पर निगाहें लगाए रहने लगा कब आएगी वो 

लेकिन वह नहीं आई मेरे दिल की धड़कन बढ़ने लगी उसे देखने के लिए  शायद मैंने उससे अपना दिल लगा लिया था इसलिए मेरा दिल मान नहीं रहा था उसके बगैर दिल बार-बार यही कह रहा था मुझे उससे मिलना है लेकिन क्या करता मेरी हालत अभी चलने लायक नहीं थी नहीं तो अपने दिल को उसके पास ले चलता मैं लेटे-लेटे सोच रहा था मेरी किस्मत तो देखो कितनी खराब है एक हसीन लड़की मेरी जिंदगी में आई और मैं उसका नाम तक नहीं पूछ पाया और ना ही उसकी तारीफ कर पाया

heart touching true love story in hindi  

अब कहां ढूंढगा उसे मैं हर रोज बिस्तर पर पड़े पड़े अपनी  किस्मत को कोसता रहता कम से कम 3 महीने बाद तो मैं चल पाया और बोल पाया मुझे ठीक देख कर सारे लोग खुश थे लेकिन मैं तो बस उसी लड़की के बारे में सोच रहा था काश वह भी होती इस वक्त तो मेरा दिल भी खुश होता ठीक होने के बाद सबसे पहले मैंने उसे ही ढूंढा 

लेकिन मुझे कुछ भी पता ना चला उसका मैं सुबह से उठते यही मांगता खुदा से एक बार मुझे उस लड़की से मिला दे समय गुजरता गया लेकिन मेरी यादों वह बनी रही उसे मेरा दिल नहीं भूल पाया करीब 3 साल तक मै ऐसे ही दुआएं मांगता रहा और उसे ढूंढता रहा एक दिन मेरी माँ ने कहा बेटा ध्रुव मैंने तेरे लिए एक लड़की है देखी है अगर तू भी उसे पसंद कर लेता तो मैं आगे की बात चलाती उसके मम्मी-पापा से  

मैंने कहा अरे मम्मी आप मेरी इतनी जल्दी शादी के पीछे क्यों पड़े हो पहले मुझे कुछ करने तो दो लेकिन मां तो मां होती है वह अपनी जिद पर अड़ी रही मैंने कहा ठीक है मां और मुझे माना के ही मानी मैंने कहा ठीक है माँ कब चलना है लड़की के घर माँ में कहा परसों सोमवार को मैंने कहा तो बोल दिया माँ को लेकिन मेरा दिल राजी नहीं था शादी के लिए सोमवार का दिन आगया मम्मी-पापा मुझे भी अपने साथ ले गए 

मैं सोचता जा रहा था की मुझे ना लड़की को शादी के लिए ना कह देनी है मैं किसी और से प्यार करता हूँ कुछ ही देर हम सब लड़की वालों के घर पहुंच चुके थे उन्होंने बहुत आदर पूर्वक हम लोगों का स्वागत किया और अंदर लेकर चले गए सभी खुशी ख़ुशी बातें कर रहे थे लेकिन मेरा मन तो कही और खोया हुआ था इतने में ही एक लड़की चाय लेकर आई उसने मुझसे कहा मेरे दीदी आपको छत पर बात करने के लिए बुला रही है 

heart touching true love story in hindi  

मैं छत पर चला गया बात करने के लिए वो लड़की पीठ करके खड़ी हुई थी मैंने बिना उसका चेहरा देखे  बगैर ही उससे कहने लगा  मुझे माफ कर देना मैं आपसे शादी नहीं कर सकता क्योंकि मैं किसी और से प्यार करता हूँ उसने पलट कर कहा क्या  मैं उस खुशकिस्मत लड़की का नाम जान सकती हूँ उसे देखकर मेरी आंखें चौंक गई यह तो वही लड़की है जिसे मैं ढूंढ रहा था जिसे मैं हर रोज खुदा से मांग रहा था 

उसे देख कर मेरा खुशी का ठिकाना ना रहा उसने भी मुझे पहचान लिया और वो मेरे बारे में पूछने लगी अब कैसे हो तुम मैंने उससे  कहा अब तो मैं ठीक हूं अगर तुम ना होती उस दिन तो मैं जिंदा ही नहीं होता उस दिन तो मैं तुम से कुछ कह नहीं पाया लेकिन आज कहता हूँ शुक्रिया मेरी  जान बचाने के लिए  जब मैंने आप को देखा था 

heart touching true love story in hindi 

तो उसी दिन से मेरा दिल आप का हो गया था उसके बाद तो मुझे कोई अच्छा नहीं लगा अब आप मुझे फिर से मिल गई हो इस बार मैं तुम्हें खोना नहीं चाहता अब तो तुम्हारे साथ ही रहना चाहता हूँ क्या आप मुझसे शादी करोगी उसने मेरी बात सुन कर शर्माते हुए हां बोल दिया उसके बाद तो हम दोनों सातजन्मों के लिए एक दूसरे के हो गये  तभी से दोस्तों मैं किस्मत पर विश्वास करने लगा  

तो यह थी heart touching true love story in hindi मेरी रियल स्टोरी आशा करता हूँ इस कहानी ने आप के दिल को छूआ होगा 

read

मेरे साथ ही क्यों

विश्वास ही शादी है

सच्चे प्रेमी जो जिस्म के पीछे

जीवन प्यार बिना अधूरा है