भूत नहीं होते-moral story in hindi short

क्या आप को भी डर लगता है अगर हैं तो पढ़े इस moral story in hindi short को आप का डर सारा निकल जाएगा moral story in hindi short

एक टीचर सभी बच्चों को अपने जीवन की एक कहानी बताता है टीचर ने कहा जब मैं छोटा था तो मुझे अंधेरे से बहुत डर लगता था क्योंकि यह डर मैंने खुद ही बना लिया था मैंने सुन रखा था कि अंधेरे में भूत होते हैं इसलिए मैं कभी भी अंधेरे में नहीं जाता था यहां तक कि मैं रात को हमेशा लाइट जला कर सोता था moral story in hindi short 

पहले मुझे अंधेरे से डर नहीं लगता था एक बार क्या हुआ जब मैं 5 साल का था तभी रात को अपने दोस्तों के साथ खेल रहा था खेलते खेलते लाइट थोड़ी देर के लिए चली गई तो सारे घर में अंधेरा ही अंधेरा दिखाई देने लगा मेरे सारे दोस्त मेरे पास आकर हाथ को पकड़ कर कहने लगे अभिषेक हमारे मम्मी पापा कहते हैं moral story in hindi short

अंधेरे में भूत होते हैं मैंने कहा कौन से भूत तब दोस्त ने कहा क्या तुमने भूत के बारे में नहीं सुना मैने कहा नहीं तो दोस्तों ने कहा भूत बहुत डरावने होते हैं उनके बड़े बड़े दांत होते हैं और बड़े बड़े नाखून होते हैं और वे बच्चों को अंधेरे में खा जाते है उनकी बाते सुनकर मुझे भी डर लगने लगा मेरे मन में भी भूतों की छवि बनने लगी

moral story in hindi short

मुझे भी वैसे ही डरावनी चीजें मन में आने लगी जैसा दोस्तों ने मुझे बताया वैसा मैं भी अनुभव करने लगा बिना कुछ जाने समझे में भी उनकी बातों पर यकीन करने लगा फिर क्या मुझे भी अंधेरे से डर लगने लगा तुरंत देर बाद लाइट आ गई लेकिन मेरा डर बना ही रहा मेरे दिमाग में बस भूतों के विचार आ रहे थे जैसा मुझे दोस्तों ने बताया था moral story in hindi short

अब तो अंधेरा मेरी कमजोरी बन गया जब भी रात होती तो मुझे डर सताने लगता ऐसे ही कुछ दिनों तक चलता रहा लेकिन मेरा डर ख़त्म नहीं हुआ एक रात मैंने माँ से कहा माँ मुझे आपके साथ सोना है मुझे अंधेरे से डर लगता है माँ कहने लगी बेटा तुम्हें पहले तो अंधेरे से डर नहीं लगता था मैंने कहा माँ अंधेरे में भूत होते हैं

आप नहीं जानती वह बच्चों को अंधेरे में कच्चा खा जाते हैं और उनका खून पी लेते हैं तब माँ मेरी बाते सुनकर बहुत जोर से हंसने लगी और कहने लगी तुम्हें किसने कहा कि अंधेरे में भूत होते हैं मैंने कहा मां दोस्तों ने मां ने कहा तुम्हारी दोस्त झूठ बोलते हैं अंधेरे में मैंने तो कभी कोई भूत नहीं देखा है moral story in hindi short

मैंने कहा मां आप झूठ बोल रहे हो अंधेरे में भूत होते हैं फिर क्या मां ने कमरे की लाइट बंद कर दी तो कमरे में अंधेरा ही अंधेरा हो गया और फिर माँ ने एक मोमबत्ती जलाई और मुझसे कहा मुझे बताओ कहां है भूत मैंने चारों तरफ देखा तो मुझे बस अंधेरा ही अंधेरा दिखाई दे रहा था कोई भूत नहीं था अंधेरे में moral story in hindi short

तब माँ ने कहा बेटा अब तो पता चला अंधेरे में कोई भूत नहीं होते वह तो हमारे मन में या दिमाग में जो नकारात्मक ( भूत ) विचार घूमते रहते हैं वही भूत बनकर आ जाते हैं तब मुझे सारी बात समझ में आ गई अब मुझे यकीन हो गया अंधेरे में कोई भूत नहीं होते है

moral story in hindi short

सीख-हम भी कभी इसी बच्चे की तरह हो जाते हैं जो बिना जाने समझे अपने मन के अंदर डर बना लेते हैं और हमेशा डरते रहते हैं इससे अच्छा तो है हम खुद उस चीज का अनुभव करें

इस कहानी से हमें समझ में आया होगा की डर एक भ्रम है जो हम खुद ही बना लेते है तो कैसी लगी यह moral story in hindi short स्टोरी हमें जरूर बताये

शायद ये कहानियां भी आपको पसंद आए

love story kahani hindi-एक शर्मिला लड़का जिसे में दिल दे बैठी
moral and motivation in hindi गधे की तरह बनिए
romantic a cute love story in hindi-वो अजनबी लड़की
एक लड़की मेरी आँखों के सामने मरती रही ही
मुझे वो लड़की किस्मत से मिली-heart touching true love
sad love story in hindi heart touching मेरे साथ ही क्यों
love story in hindi heart touching विश्वास ही शादी है
short love stories in hindi with moral-सच्चे प्रेमी जो
good moral story in hindi संघर्ष जरूरी होता है
god story in hindi भगवान पर विश्वास करकें देखे