motivational kahani in hindi-नकारात्मक दोस्त और सकारात्मक दोस्त की कहानी

इस motivational kahani in hindi से मैंने समझाने की कोशिश की हैं अपने ऊपर कभी भी नकारात्मक विचारों को हावी नहीं होने दे क्योकि ये हमें कभी भी सफल नहीं होने देते है और इस motivational kahani in hindi से विचारों का महत्व भी पता चलेगा तो पढ़े इस motivational kahani in hindi को

एक गांव में दो दोस्त रहते थे एक का नाम था नकारात्मक और दूसरे दोस्त का नाम था सकारात्मक दोनों दोस्त एक दूसरे के पड़ोसी थे वे दोनों एक साथ ही पढ़ते थे एक साथ ही खेलते थे और एक साथ ही स्कूल जाते थे समय बीतता गया अब दोनों बड़े हो गये जीवन को जानने लगे और हर काम को अपनी ही मेहनत पर करने लगे कुछ सालों बाद सकारात्मक दोस्त एक बिजनेसमैन बन गया motivational kahani in hindi

लेकिन नकारात्मक दोस्त कोई भी काम करता तो उसमें सफल नहीं हो पाता अगर हो भी जाता तो उसको ज्यादा दिनों तक नहीं कर पाता और उसकी जिंदगी भी बस ऐसे ही कटने लगी और वह भी टूटने लगा वह समझ नहीं पा रहा था कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है मेरे साथ लेकिन उसे उसकी समस्या का हल नहीं मिल रहा था motivational kahani in hindi

ऐसे ही खुद से बात करते करते कहीं जा रहा था इतने में उसकी नजर अपने दोस्त पर पड़ी जो बहुत महंगी गाड़ी में कहीं जा रहा था और कहने लगा अरे ये तो मेरे बचपन का दोस्त है यह तो कैसे इतना बड़ा आदमी बन गया और उसे देखकर नकारात्मक दोस्त जलने लगा और खुद से कहने लगा में अभी तक कुछ नहीं कर पाया और मेरा दोस्त इतना बड़ा कैसे आदमी बन गया उसकी ईष्या ( जलन ) का तो ठिकाना न रहा और वह भी सकारात्मक दोस्त की तरह बनने का ख्वाब देखने लगा short motivational story in hindi for success

तो फिर क्या था उसने सोचना चालू किया ऐसा क्या काम किया जाए जिससे मैं भी ऐसा बड़ा आदमी बन सकूं तो पहले तो उसने लेखक का काम किया और सोचने लगा मैं एक लेखक बन जाऊंगा और मेरी किताबे लोग पढ़ेंगे उन्हें खरीदेंगे तो मैं भी सकारात्मक दोस्त की तरह पैसे वाला आदमी बन जाऊंगा लेकिन कुछ दिन तक तो ठीक रहा उसके बाद उसने काम भी छोड़ दिया और दूसरे काम को करने लगा

फिर उसने ठेकेदार का काम शुरू कर दिया और सोचने लगा अब मैं दूसरों के घर बनाऊंगा इससे खूब सारा पैसा कमा लूंगा फिर मैं भी सकारात्मक दोस्त की तरह बड़ी सी गाड़ी खरीदूंगा लेकिन कुछ दिनों बाद उसने वो काम भी छोड़ दिया और दूसरे काम को ढूढ़ने लगा लेकिन अब तो हद हो गई

best motivational kahani in hindi

वह काम करता और कुछ दिनों बाद उसे छोड़ देता बहुत दिनों तक ऐसे ही करता रहा लेकिन कोई भी काम में सफल ना हो सका और अपने दोस्त के पास जा पहुंचा और सकारात्मक दोस्त से माफी मांगने लगा हमें माफ करदो तुम नहीं जानते मैंने तुमसे कितनी ईष्या ( जलन ) इसलिए मुझे माफ करदो दोस्त ने उसे उठाया और बैठाया नकारात्मक दोस्त को आदर सम्मान दिया

क्योंकि वह अपने नाम की तरह अंदर से सकारात्मक विचारो का था नकारात्मक दोस्त ने सकारात्मक दोस्त से पूछा हम दोनों साथ-साथ पढ़े लिखे हम दोनों एक साथ क्लास में अच्छे नंबर से पास होते थे फिर भी मैं जीवन में तुम जैसा क्यों नहीं बन पाया तो सकारात्मक दोस्त ने कहा बस इतनी सी बात है जो तुम्हें परेशान कर रही है

और उत्तर दिया सफलता एवं लक्ष्य उन लोगों को हासिल होते हैं जो बिल्कुल तन-मन जी जान लगाकर उस काम को करते हैं जिसमें वो सफल होना चाहते हैं तो निश्चित ही एक दिन वे उस काम सफल हो जाते हैं या लक्ष्य को पा लेते है लेकिन तुम कोई भी काम में सफल इसलिए नहीं हो पाए क्योंकि तुम काम तो शुरू कर देते थे

motivational story in hindi for success

लेकिन तुम्हारे नकारत्मक विचार तुम्हें बार-बार परेशान करते थे और तुम उन्हीं नकारत्मक विचारों में उलझ जाते और सोचने होगे इस काम को नहीं कर पाऊंगा इसमें मेहनत करनी पड़ती है और मैं इसमें सफल नहीं हो पाऊंगा ऐसे विचार तुम्हारे मन को बार-बार परेशान करते थे इसलिए तुम एक काम शुरू करते और नकारत्मक विचार आते तो तुम कुछ दिन तक उस काम को करते और फिर उस काम को छोड़ देते

इसलिए तुम कोई भी काम में सफल नहीं हो पाए लेकिन मुझे देखो मैं एक बिजनेसमैन हूं और आज इस शहर में मेरा नाम हैं और साथ ही में एक सफल व्यक्ति भी हूं इसका कारण सिर्फ एक ही है कि मैंने जी जान से सिर्फ एक काम को पकड़ा और मुझे शौक था बिजनेसमैन बनने का और इस में कुछ कर दिखाने का इसलिए जब मैने इस काम की शुरुआत की थी

motivational kahani in hindi for students

तो मुझे भी तुम्हारी तरह नकारत्मक विचारों ने मुझे बार बार परेशान की लेने मैंने इनको अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और मैंने इन विचरों को सकारात्मक विचारों में बदल दिया इन्हीं की वजह से मैं आज एक सफल बिजनेसमैन बन पाया हूँ अगर मैंने भी तुम्हारी तरह नकारात्मक विचारों से परेशान होकर अपने सकारात्मक विचारों पर आने दिया होता

तो शायद मैं भी तुम्हारी तरह कोई भी काम नहीं कर पाता और आज एक सफल बिजनेसमैन नहीं बन पता फिर नकारात्मक दोस्त ने अपने दोस्त की सीख (प्रेरणा )को अपने जीवन में अपना लिया और उसने भी नकारात्मक विचारों को छोड़ कर सकारात्मक विचारों को जीवन में अपना लिया वो भी सकारात्मक विचारों की महानता को समझ गया

motivational kahani in hindi

प्रेरणा
दोनों दोस्तों की कहानी हमारे जीवन पर भी लागू होती है हम भी जीवन में कुछ करना चाहते हैं बनना चाहते हैं और उस राह पर चलना भी शुरू कर देते है लेकिन नकारात्मक दोस्त की तरह हमारे विचार भी हो जाते हैं और फिर हम उस काम को या तो करते नहीं या बीच में ही छोड़ देते हैं अब बताइए सफलता मिले तो कैसे इसलिए कोई भी काम करो पर अपने नकारात्मक विचारों को छोड़कर करो

यह  motivational kahani in hindi स्टोरी आपको पसंद आई हो तो आप अपने सुझव हमें दे सकते है 

read

 सच्चे प्रेमी जो जिस्म के पीछे 

 

 


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *